Friday, 27 December 2019

सूर्य ग्रहण पर अंधविश्वास की सारी हदें पार, 4 जिंदा बच्चों को गर्दन तक गाड़ा, वजह जानकार चोक जाओगे



भारत एक ऐसा देश है जहाँ पर लोग जादू टोने ओर अंधविश्वाश बहुत ज़्यादा करते है ओर इसी अंधविश्वश के चलते बारात में अनेक बच्चों ओर ओरतो को मौत के घाट उतार दिया जाता हे

रोचक तथ्ये -  साल 2021 में सभी राशि वाले करें ये उपाय, नहीं होगी पैसों की तंगी



एक ओर देश के अधिकतर हिस्से सूर्य ग्रहण के गवाह बन रहे थे, वहीं कर्नाटक स्थित कलबुर्गी जिले के सुल्तानपुर गांव में चार बच्चों को कीचड़ में गले तक जिंदा गाड़ दिया गया। कीचड़ में गोबर को भी मिलाया गया। उनके माता-पिता ने यह अमानवीय कृत्य इसलिए किया, ताकि बच्चों की दिव्यांगता दूर हो सके।

घटना की जानकारी मिलते ही पुलिस और जिला प्रशासन के अधिकारी मौके पर पहुंच गए। कुछ स्थानीय लोगों के साथ उन्होंने बच्चों को बाहर निकाला। फिलहाल, मामले की जांच चल रही है। एक बच्ची के पिता ने पुलिस को कहा कि वे अपने बड़ों की बात का अनुसरण कर रहे थे। जब चिकित्सा उपचार से कोई फायदा नहीं हुआ तो उन्होंने इसे आजमाने का फैसला किया।

हालांकि, उन्हें यह पता नहीं है कि इससे बच्चा ठीक होगा या नहीं। एक अन्य बच्चे की मां ने कहा कि हमने अस्पतालों में बहुत पैसे खर्च किए। माना जाता है कि ग्रहण के दौरान दिव्यांग बच्चे को कीचड़ में गले तक दबाना कारगर साबित होता है। हम इसे आजमाना चाहते थे। उधर, जिले के कुछ अन्य हिस्सों से भी ऐसी ही घटनाओं की खबर मिली है। इनमें विजयपुरा जिले का इंडी इलाका भी शामिल है। अधिकारियों ने कहा कि पहले भी सूर्य ग्रहण के दौरान इलाके से ऐसी ही घटनाओं की खबरें मिलती रही हैं। हालांकि, पहले के मुकाबले अब इनकी तादाद कम हो गई है।

भारत ही नही बल्कि भारत के पड़ोसी देश पाक में भी लोग अंधविश्वाश में बहुत जीते है उनका मानना है की व्यक्ति को सूर्ये गरण के दिन गर्दन तक ज़मीन में गाड़ने से उसकी बीमारी ठीक हो जाती है

अन्ये राशि -Rashifal 2021: कन्या राशि वाले नए साल में नौकरी में परिवर्तन के लिए तैयार रहें, संपती में भी होगा मुनाफ़ा

रोचक ख़बर -झारखंड विधानसभा चुनाव में हार के बाद सबक लेकर अब यह बड़ा कदम उठाएगी भाजपा
रोचक तथ्ये -  साल 2021 में सभी राशि वाले करें ये उपाय, नहीं होगी पैसों की तंगी


No comments:

Post a Comment

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();