Friday, 27 December 2019

झारखंड विधानसभा चुनाव में हार के बाद सबक लेकर अब यह बड़ा कदम उठाएगी भाजपा



हाल ही में समाप्त हुए झारखंड विधानसभा चुनावों के बाद भाजपा ने हार के कारणों का पता लगाना शुरू कर दिया है. तथा अन्ये राज्यों में होने वाले चुनावों में यहाँ पर हुई ग़लतियों को सुधारने का प्रयास करेगी
झारखंड विधानसभा चुनावों में हार के बहुत से कारण सामने आए हे

बीजेपी की बैठक में अब इस बात पर खासा जोर दिया जा रहा है कि राज्यों के विधानसभा चुनाव में बेहतर प्रदर्शन करने के लिए हमें स्थानीय नेताओं को तरजीह देना होगा. बता दें कि झारखंड चुनाव में जहां पार्टी को करारी हार का सामना करना पड़ा है वहीं हरियाणा में भी पार्टी को पहले के मुकाबले सीटों को नुकसान उठाना पड़ा था.

उधर, महाराष्ट्र में भी बीजेपी के हाथ से सत्ता चली गई. भाजपा सूत्रों ने कहा कि पार्टी नेतृत्व जल्द ही स्थिति का आकलन करेगा कि झारखंड में क्या गलत हुआ. साथ ही नेतृत्व और राज्य इकाई में आंतरिक कलह जैसे स्थानीय मुद्दों के अलावा एकताबद्ध विपक्ष को लेकर भी विश्लेषण किया जाएगा. दिल्ली सहित आगामी चुनावों के लिए रणनीति बनाई जाएगी.


सूत्रों ने बताया कि झारखंड के अनुभव ने स्थानीय इकाइयों की आवाज सुनने की आवश्यकता पर बल दिया है, खासकर उन राज्यों में जहां पार्टी सत्ता में है. उन्होंने कहा कि भाजपा को महाराष्ट्र में कुछ सीटों का नुकसान हुआ क्योंकि कई क्षेत्रीय कद्दावर नेताओं के टिकट काट दिए गए जिनके संबंध तत्कालीन मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस से अच्छे नहीं थे. बता दें कि झारखंड के निवर्तमान मुख्यमंत्री रघुबर दास, अपनी ही पार्टी के एक प्रमुख नेता सरयू राय से हार गए. राय कद्दावर स्थानीय नेता हैं और केंद्रीय नेतृत्व ने दास के कामकाज के तरीके पर राय की आपत्तियों को नजरअंदाज कर गलती की. उन्होंने कहा कि हो सकता है कि इससे पार्टी शासित राज्यों असम, उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश में हो रहे घटनाक्रम पर ज्यादा नजदीकी से नजर रखने के लिए प्रेरित हो.

पिछले वर्ष के बाद से चार राज्यों में भाजपा की हार से राज्यसभा में विपक्ष मजबूत हो सकता है जब मध्यप्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़ और झारखंड से ऊपरी सदन के लिए चुनाव होंगे. जेएमएम के नेतृत्व वाले तीन दलों के गठबंधन ने झारखंड में सोमवार को भाजपा को सत्ता से बाहर कर दिया. 81 सदस्यीय विधानसभा में गठबंधन ने 46 सीटों पर जीत दर्ज की और भगवा दल के सीटों की संख्या 37 से घटकर 25 रह गई.

भाजपा के अध्यक्ष अमित शाह ने हार के कारणो का पता कर पार्टी को उन कारणो से सबक़ लेने को कहा।

No comments:

Post a Comment

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();